Close

हमारे बारे में

एसटीपीआई-नोएडा, 11 एसटीपीआई क्षेत्राधिकारों में से एक, नोएडा-उत्तर प्रदेश में स्थित है और इसके 11 उप-केंद्र भिलाई, भोपाल, देहरादून, ग्वालियर, इंदौर, जयपुर, जोधपुर, कानपुर, लखनऊ, मेरठ और प्रयागराज स्थित हैं। गौतम बौद्ध नगर में स्थित (उत्तर भारत में एक प्रमुख आईटी क्लस्टर) एसटीपीआई-नोएडा पिछले तीन दशकों से विभिन्न प्रदेशों जैसे उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, मध्य प्रदेश, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, छत्तीसगढ़ और केंद्र शासित प्रदेश जम्मू राज्यों में सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर उद्योग के विकास के लिए रीढ़ की हड्डी रहा है और नोएडा को भारत में अग्रणी आईटी समूहों में से एक के रूप में उभरने में सक्षम बनाया है।

एसटीपीआई-नोएडा ने उत्तर भारत क्षेत्र से सॉफ्टवेयर निर्यात के विकास का आश्वासन दिया है और राष्ट्र की आर्थिक प्रगति को बढ़ावा देकर रोजगार और उद्यमशीलता के अवसर पैदा किए हैं। वित्तीय वर्ष 2020-21 में एसटीपीआई-नोएडा क्षेत्राधिकार के तहत एसटीपीआई-पंजीकृत इकाइयों ने आईटी/आईटीईएस/ईएसडीएम निर्यात में 53,226 करोड़ रुपये का योगदान दिया ।

नोएडा केंद्र

की शुरुआत

एसटीपीआई-नोएडा सन 1992 में स्थापित हुआ जो कि एनसीआर में आईटी हब के रूप में आने वाला और उत्तर और मध्य भारत के माध्यमिक शहरों में अन्य एसटीपीआई उप-केंद्रों को नियंत्रित करने वाला पहला केंद्र था । एसटीपीआई-नोएडा 320 वर्ग मीटर प्रयोग करने योग्य स्थान/परिसर के साथ शुरू हुआ और 38 इकाइयों को मंजूरी दी गयी, २३ इकाइयों ने परिचालन शुरू किया जिनमें से 13 इकाइयां एसटीपीआई परिसर में संचालित थीं । सन 1993-94 में एसटीपीआई-नोएडा ने सैटकॉम के सहयोग से एचएसडीसी सुविधा की स्थापना की, जो जुलाई 1994 के दौरान परिचालित हुयी ।

उत्तरी भारत में गतिशील विकास

आईटी उद्योग के विकास में एसटीपीआई की भूमिका खासकर स्टार्ट-अप एसएमई के मामले में जबरदस्त रही है । एसटीपी योजना एक उत्प्रेरक : एसटीपी योजना कंप्यूटर सॉफ्टवेयर के विकास और निर्यात के लिए 100 प्रतिशत निर्यातोन्मुखी योजना है, जिसमें संचार-लिंक या भौतिक-मीडिया का उपयोग करके व्ययवसायिक सेवाओं का निर्यात शामिल है। यह योजना अपने आप में अद्वितीय है क्योंकि यह एक उत्पाद/क्षेत्र, यानी कंप्यूटर सॉफ्टवेयर पर केंद्रित है। यह योजना 100 प्रतिशत निर्यात उन्मुख इकाइयों (ईओयू) और निर्यात प्रसंस्करण क्षेत्रों (ईपीजेड) की सरकारी अवधारणा और दुनिया में कहीं और संचालित होने वाले विज्ञान पार्कों / प्रौद्योगिकी पार्कों की अवधारणा को एकीकृत करती है। उद्योग को सशक्त बनाने और उन्हें तुरंत अपना संचालन शुरू करने में सक्षम बनाने के लिए, एसटीपीआई-नोएडा ने सन 1993-94 के दौरान गंगा शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, सेक्टर 29, नोएडा में 1,800 वर्ग मीटर क्षेत्र का अधिग्रहण किया और इस केंद्र से से 12 एसटीपीआई-पंजीकृत इकाइयां संचालित हो रही थीं। एसटीपीआई-नोएडा के तहत एसटीपीआई-पंजीकृत इकाइयों से कुल निर्यात वित्तीय वर्ष 1992-93 में 23.56 करोड़ रूपये से बढ़कर वर्ष 2020-21 में 53,226 करोड़ रूपये हो गया ।

नई पहल

इलेक्ट्रोप्रेन्योर पार्क, दिल्ली

इलेक्ट्रोप्रेन्योर पार्क (ईपी)- दिल्ली, इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम डिजाइन एंड मैन्युफैक्चरिंग (ईएसडीएम) क्षेत्र में सार्वजनिक-निजी भागीदारी (पीपीपी) मोड के तहत भारत में अपनी तरह का पहला इनक्यूबेशन सेंटर है। ईपी पूरी तरह से इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (MeitY), भारत सरकार द्वारा वित्त पोषित है और इसे एसटीपीआई द्वारा प्रबंधित किया जाता है। परियोजना में अन्य हितधारकों में दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) अकादमिक भागीदार और इंडिया इलेक्ट्रॉनिक्स एंड सेमीकंडक्टर एसोसिएशन (आईईएसए) कार्यान्वयन एजेंसी के रूप में शामिल है। ईपी, ईएसडीएम क्षेत्र में उत्पाद के विकास और आईपी निर्माण पर जोर देता है। एक परियोजना के रूप में, ईपी को 50 स्टार्टअप को सफलतापूर्वक इनक्यूबेट करने के लक्ष्य के साथ 5 साल की अवधि के लिए परिकल्पित किया गया है। परियोजना को शुरुआती 5 साल की अवधि के बाद तीन विस्तार दिए गए और अंतिम विस्तार 8-वें पीआरएसजी द्वारा जून 2022 में दिया गया । ईपी की प्रमुख उपलब्धियां निम्नानुसार हैं: • 7 सीज़न से 44 स्टार्टअप लाभार्थी • 30 कार्यशील प्रोटोटाइप विकसित किए गए • 19 अस्थायी पेटेंट • 36 आईपी दायर किये गए • 36 नए उत्पाद बनाए गए • 450 रोजगार सृजित किये गए • 10 स्टार्टअप ने 25 लाख रूपये या अधिक प्राप्त किये • 11 स्टार्टअप्स ने 25 लाख रुपये से कम का अनुदान और वित्त पोषण प्राप्त किया • स्टार्टअप्स द्वारा 47.8 करोड़ रूपये का राजस्व उत्पन्न हुआ • सभी स्टार्टअप्स का अनुमानित मूल्यांकन 250 करोड़ रूपये है

न्यूरॉन सीओई

न्यूरॉन सीओई एसटीपीआई-मोहाली में एआई/डेटा एनालिटिक्स, आईओटी और एवीजी क्षेत्र में उद्यमिता केंद्र (सीओई), सहयोगी तरीके से स्थापित किया गया है । इसके मुख्य हितधारक एमईआईटीवाई, एसटीपीआई, पंजाब सरकार, आईएसबी-मोहाली, और पीटीयू हैं । अन्य भागीदार आई आई टी रोपड़, एस सी एल, सीएएन और टीआईई चंडीगढ़। इस सीओई का उद्देश्य उद्यमिता बनाना है, जो आर्थिक विकास, रोजगार सृजन, धन सृजन और प्रतिस्पर्धा के लिए प्रमुख स्तंभ है। पिछले दो समूह में 13 स्टार्टअप शामिल हुए हैं। ईआई एवं डीए (डेटा एनालिटिक्स) लैब चालू है, 19 मेंटर्स को न्यूरॉन के साथ स्टार्टअप्स को सपोर्ट करने के लिए जोड़ा जा रहा है, 2 OCPs जैसे स्टार्टअप चयन प्रक्रिया पूरी हो गई है, और स्टार्टअप्स के लिए बूटकैंप प्रोग्राम शुरू हो गया है। वर्तमान में, तीसरा समूह होनहार तकनीकी स्टार्टअप का चयन करने की प्रक्रिया में है।

एपाइरी सीओई

एपाइरी ( एपीआईएआरवाई ) ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी में एक सीओई एसटीपीआई-गुरुग्राम में जुलाई 2020 में लॉन्च किया गया । यह सीओई 10 हितधारकों जैसे: एमईआईटीवाई, एसटीपीआई, हरियाणा सरकार, 3 अकादमिक भागीदार, 2 उद्योग भागीदार, 1 ज्ञान भागीदार और 1 उद्योग संघ के साथ सहयोगात्मक तरीके से स्थापित किया गया है। यह सीओई पांच वर्षों में 25.27 करोड़ रुपये के बजटीय परिव्यय के साथ 100 स्टार्टअप को बढ़ावा देगा और अभी 10 स्टार्टअप पहले समूह में शामिल हो गए हैं। स्टार्टअप्स के लिए बूटकैंप कार्यक्रम प्रगति पर है।

मेडटेक सीओई

चिकित्सा इलेक्ट्रॉनिक्स और स्वास्थ्य सूचना विज्ञान के क्षेत्र में वहन करने योग्य उच्च गुणवत्ता वाले उपकरण विकसित करते हुए उभरती प्रौद्योगिकियों का उपयोग करके, स्टार्टअप का पोषण करने के लिए, एसटीपीआई ने उद्भवन सुविधा, सलाह और अकादमिक सहायता, प्रयोगशाला पहुंच, वित्त पोषण और विपणन सहायता और आईपी सुविधा के साथ एक व्यापक पारिस्थितिकी तंत्र प्रदान करके, एसजीपीजीआई लखनऊ में मेडटेक सीओई (मेडियलक्ट्रोनिक्स और स्वास्थ्य सूचना विज्ञान में एक सीओई ) की स्थापना की है। इस सीओई को अगस्त 2020 में लॉन्च किया गया था। 22 करोड़ रुपये के बजटीय परिव्यय के साथ यह सीओई चिकित्सा प्रौद्योगिकी और स्वास्थ्य सूचना विज्ञान में 50 स्टार्टअप का पोषण करेगा। इस सीओई को एसजीपीजीआई लखनऊ में 18,000 वर्ग फुट प्लग-एंड-प्ले स्पेस आवंटित किया गया है। इसके मुख्य हितधारक एमईआईटीवाई, एसटीपीआई, यूपी सरकार, एसजीपीजीआई और अन्य सहयोगी एएमटीजेड और एआईएमईडी हैं। इसके पहले समूह में 20 स्टार्टअप चुने गए हैं।

नए एसटीपीआई केंद्रों की स्थापना

1. एसटीपीआई धर्मशाला केंद्र: हिमाचल प्रदेश राज्य सरकार ने एसटीपीआई केंद्र की स्थापना के लिए चेतरू, धर्मशाला में 2 एकड़ भूमि प्रदान की है। एसटीपीआई पहले ही एचएससीएल को पीएमसी के रूप में नियुक्त कर चुका है और निर्माण कार्य इस वर्ष के भीतर शुरू होने की संभावना है। 2. एसटीपीआई पंचकुला केंद्र: हरियाणा राज्य सरकार ने एसटीपीआई केंद्र स्थापित करने के लिए पंचकुला में लगभग 2 एकड़ भूमि प्रदान की है। एसटीपीआई ने पहले ही सीपीडब्ल्यूडी को पीएमसी के रूप में नियुक्त किया है और निर्माण कार्य इस वर्ष के भीतर शुरू होने की संभावना है। 3. एसटीपीआई कानपुर केंद्र: उत्तर प्रदेश के पनकी, कानपुर में एसटीपीआई केंद्र की स्थापना के लिए एसटीपीआई और सरकार के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए हैं। राज्य सरकार पनकी-कानपुर में केंद्र स्थापित करने के लिए भूमि एसटीपीआई को हस्तांतरित करने की प्रक्रिया में है। 4. एसटीपीआई वाराणसी केंद्र: उत्तर प्रदेश के वाराणसी में एसटीपीआई केंद्र की स्थापना के लिए एसटीपीआई सरकार के साथ समन्वय कर रहा है। वाराणसी में 15,000 वर्ग फुट के एक निर्मित स्थान को अंतिम रूप दिया गया है। एसटीपीआई और उत्तर प्रदेश सरकार के बीच एक समझौता ज्ञापन पर जल्द ही हस्ताक्षर होने की संभावना है।

नए सीओई की स्थापना

ड्रोन सीओई: एसटीपीआई देहरादून में ड्रोन और रोबोटिक्स में एक सीओई प्रक्रियाधीन है। जीआईए की मांग के लिए 20 करोड़ रूपये के बजटीय परिव्यय के साथ डीपीआर उत्तराखंड सरकार को सौंप दी गई है। इसके मुख्य हितधारक उत्तराखंड सरकार, आईटीडीए, ड्रोन फेडरेशन ऑफ इंडिया, आईआईटी रुड़की, आइडिया फोर्ज (इंडस्ट्री पार्टनर), इंडस्ट्री एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंडऔर कॉन्फिडेंशियल इलेक्ट्रॉनिक्स पाइवेट लिमिटेड हैं।

आरएचएसडीसी सुविधा

एसटीपीआई-नोएडा, उद्योग की जरूरतों को पूरा करने के लिए रिडंडेंट हाई स्पीड डेटा कम्युनिकेशन कंट्रोल रूम स्थापित कर रहा है। अत्याधुनिक नियंत्रण कक्ष रिडंडेंट आईएसपी, अत्यधिक कुशल सटीक एयर कंडीशनर, रिडंडेंट यूपीएस, डीजी सेट आदि से लैस होगा। आरएचएसडीसी में लगभग 20 रैक स्थापित किए जाएंगे ताकि उद्योग की विभिन्न डेटाकॉम और मूल्यवर्धन सेवाओं को संबोधित किया जा सके। आरएचएसडीसी परियोजना पूरी होने के करीब है और उद्योग के लिए जल्द ही सेवाएं शुरू की जाएंगी।

एसटीपीआई - नोएडा के उप-केंद्र :

एसटीपीआई ने 1991 में अपनी स्थापना के बाद से 3 केंद्रों के साथ पूरे भारत में अपनी उपस्थिति का विस्तार किया है ताकि टेक-संचालित उद्यमिता को टियर- II / III शहरों में फैलाया जा सके। आज एसटीपीआई के 62 केंद्र हैं जिनमें से 54 केंद्र टियर-II/III शहरों में हैं। ये केंद्र संबंधित क्षेत्र से आईटी / आईटीईएस / ईएसडीएम निर्यात को बढ़ावा देने, रोजगार पैदा करने और सॉफ्टवेयर उत्पादों को विकसित करने के लिए स्टार्टअप को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।

नीचे दी गई समय-सीमा एसटीपीआई-नोएडा के उप-केंद्रों को उनकी स्थापना के वर्ष के साथ दर्शाती है :

  • 1998
    • जयपुर
  • 2001
    • लखनऊ
    • इंदौर
    • देहरादून
  • 2002
    • कानपुर
    • भिलाई
  • 2003
    • प्रयागराज
  • 2005
    • जोधपुर
  • 2012
    • ग्वालियर 
  • 2020
    • भोपाल
  • 2021
    • मेरठ

भोपाल

2020

श्री सैयद हैदर अब्बास मेहदी

Plot No C-11, IT Park, Near RGPV, New Jail Rd, Gandhi Nagar, Bhopal, Madhya Pradesh 462038
abbas.mehdi@stpi.in
9718307669

Know More

इंदौर

2001

श्री सैयद हैदर अब्बास मेहदी

MPSEDC Ltd. , STP Electronic Complex, Pardesipur, Indore - 452010 Madhya Pradesh
abbas.mehdi@stpi.in
9718307669

Know More

कानपुर

2002

श्री सूर्य कुमार पटनायक

UPSIDC Complex, A-1/4 , Lakhanpur, Kanpur - 208024 Uttar Pradesh
surya.pattanayak@stpi.in
05222307913

Know More

ग्वालियर 

2012

श्री सैयद हैदर अब्बास मेहदी

Vil. Ganga Malanpur, Morena Link Road Gwalior 474010
abbas.mehdi@stpi.in
9718307669

Know More

जयपुर

1998

श्री अवधेश कुमार

Plot IT-21, EPIP, Sitapura, Jaipur - 302022 Rajasthan
avadhesh.srivastava@stpi.in
01412770635

Know More

जोधपुर

2005

श्री अवधेश कुमार

Plot No. CYB-I, Cyber Park, RIICO Heavy Industrial Area, Near Saras Dairy, Jodhpur-342003 Rajasthan
avadhesh.srivastava@stpi.in
01412770635

Know More

देहरादून

2001

श्री मनीष कुमार

Near Vikas Bhawan Building, 2 Survey Chowk, Dehradun - 248001 Uttarakhand
maneesh.kumar@stpi.in
01352608003

Know More

प्रयागराज

2003

श्री सूर्य कुमार पटनायक

MNIT Campus , Lucknow Road, Prayagraj - 211004 Uttar Pradesh
surya.pattanayak@stpi.in
05222307913

Know More

भिलाई

2002

श्री डी. एन. बेहरा

Mangal Bhawan, Nehru Nagar (East), Bhilai - 490020 Chhattisgarh
dhiren.behera@stpi.in
9826144033

Know More

मेरठ

2021

श्री बृजेश कुमार

प्लॉट नंबर आईटी पी-03, एनएच-58 बाईपास के पास, वेदव्यास पुरी योजना, मेरठ, उत्तर प्रदेश
brijesh.kumar@stpi.in
01202470431

Know More

लखनऊ

2001

श्री सूर्य कुमार पटनायक

STP Complex, Adj. Gomti Barrage, Gomti Nagar, Lucknow - Uttar Pradesh
surya.pattanayak@stpi.in
05222307913

Know More

वापस शीर्ष पर